जरा देखिए क्यों परेशान हैं कांग्रेसी ? क्यों सत्ता के लिए छटपटाहट है

Discussion

जेटली ने IBC से मछली फांसनी चाही थी, लेकिन फंस गया मगरमच्छ ?
जरा देखिए क्यों परेशान हैं कांग्रेसी ?
क्यों सत्ता के लिए छटपटाहट है ,
2019 के बाद जेल जाने वालों की लाइन लग जायेगी ? दरअसल इन बड़े लोगों ने बिज़नेस के नाम पर मनमोहन सिंह के समय लोन लिये लेकिन बिज़नस में यह पैसा न लगाकर प्रॉपर्टी , दाल , चीनी अदि के स्टॉक में लगा कर आम जनता का पैसा कालाबाजरी से लूटना चाहते थे ? इनको क्या पता था कि बीच में मोदी टांग फंसा देगा ? यह INSOLVENCY और BANKING CODE जो जेटली लेकर आया वह नोट बंदी और GST से भी बड़ा सुधार लाया है ? जेटली ने तो IBC से मछली फांसनी चाही लेकिन फस गया मगरमच्छ ? बैंकों के पैसे तो वापिस आ ही रहें हैं , साथ में इन बड़े लोगो की कालाबाजारी की जो क्षमता थी वह भी IBC ने ख़तम कर दी ? इसलिए पेट्रोल और डीजल को छोड़कर सब चीजों के दाम कम हो रहें हैं ? बैंकों का घोटाला मनमोहन सिंह का समय सबसे बड़ा घोटला है ? इसमें आम लोगो के पैसे की लूट हुई थी ?
————————–
■ 》2014 में मोदी सरकार बनने के बाद से किसी भी Bank का कोई भी Account NPA नहीं हुआ है ?
》》मौनमोहन सिंह की सरकार दोनों हाथों से पैसा लुटाया गया ? सोनिया गांधी और राहुल बाबा के गुर्गे गरीब जनता का पैसा लूटकर खा गये ?
● अब मोदी सरकार पाई पाई वसूल कर रही है ।

》Bhushan स्टील ने अपना हिस्सा टाटा स्टील को बेच दिया है, देश के कुल NPA का सबसे बड़ा हिस्सा भूषण स्टील के नाम है !

》Jindal स्टील को अपने रेल व्यापार का 49% हिस्सा बेचना पड़ रहा है और हां उसने अपने 3500 मेगावाट के पावर प्लांट को भी SALE पर लगा दिया है !

》Essar का भी यही हाल है, जनता के पैसे को अब हर हाल में लौटाना है, इसलिए वो भी अपने स्टील कारोबार का बड़ा हिस्सा बेचने को मजबूर है और अपने तेल व्यापार की 49% हिस्सेदारी भी बेच रहा है !

》GVK के भी बुरे दिन आ गए हैं । बैंकों के पैसे लौटाने के लिए अपने बैंगलोर और बॉम्बे एयरपोर्ट 33% हिस्सेदारी बेच रहा है और सड़क से जुड़ी अपनी पूरी संपत्ति को सेल पर लगा दिया है !

》DLF का तो हाल मत पूछो, दिल्ली का भव्य साकेत मॉल तक बेचने की नौबत आ गई और अपने रेंटल और भूमि संपत्ति में से 40% हिस्सा बेच रहा है !

》GMR ने हाइवे प्रोजेक्ट, साउथ अफ्रीकन कोल माइन, इस्तांबुल एयरपोर्ट और सिंगापुर पावर प्रोजेक्ट का 70% , इंडोनेशिया के 2 कोयला खदानों को सेल पर लगा दिया है !

》JP ग्रुप अल्ट्राटेक, यमुना एक्सप्रेस वे और JSW में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच रहा है !

》टाटा भी नहीं बचे, इन्हें UK में कोरस स्टील प्लांट बेचना पड़ रहा है, धमरा पोर्ट को बेच रहा है, दक्षिण अफ्रीका में नियोटिल बेच रहा है, बॉम्बे में जमीन तक बेचनी पड़ रही है !

》Lanco आंध्रा और उडूपी में अपने बिजली उत्पादन यूनिट बेच रहा है !

》Alok इंडस्ट्रीज के NPA को भी restructure किये जाने की तैयारी चल रही है और शिकंजा कसा जा रहा है !

》Videocon, 6 सर्किल में अपना टेलीकॉम स्पेक्ट्रम बेचने को मजबूर है, मोन्जाबिक में तेल संपत्ति बेच रहा है !

》Renuka शुगर, ब्राजील पावर चीनी और बॉयो फ्यूल के कारोबार को निपटाने में जुटा है !

》Sahara समूह की 86 संपत्तियां बिक रही हैं ! फॉर्मूला वन का 42%, मुंबई में सहारा होटल, लंदन के होटल, न्यूयॉर्क प्लाजा होटल, द ड्रीम न्यूयॉर्क होटल और 4 हवाई जहाज बेच रहा है !

》बेचारे विजय माल्या के तो दुर्दिन ही आ गए हैं | Kingfisher की सारी की सारी सम्पत्ति बिक रही हैं !

》Reliance इंफ्रास्ट्रक्चर के तो हाल मत पूछो, मुंबई में बिजली कंपनी के उत्पादन और वितरण का 49% हिस्सेदारी बेचनी पड़ रही है !

》Birla सीमेंट अपना सीमेंट के व्यापार और सड़क की सारी परियोजनाएं बेच रहा है !

》NDTV को इनकम टैक्स का नोटिस आ रखा है !

》Electrosteel के विरुद्ध भी SBI ने NCLT मूव कर दिया है !

》Geetanjali ग्रुप की संपत्ति को भी ED ने जप्त करना शुरू कर दिया है ! नीरव मोदी और मेहुल चोक्सी की सम्पत्तियाँ जप्त हो रही है

》 इन्सॉल्वेंसी और बैंक्रप्सी कोड बिल के चलते, करीब 2100 अन्य कंपनियों ने बैंकों का 83000 करोड़ का कर्ज उतार दिया है ?

और यह सभी बैंकों का कर्ज उतारने के लिये …
जरा सोचिए कभी आपने कल्पना की थी कि 60 साल बाद देश की नामी कंपनियां अपनी सम्पत्ति बेचकर बैंक का कर्ज वापस कर रही होंगी, हाल ही में ये बात सामने आई है की 9 लाख करोड़ रुपये को NPA में से 4 लाख करोड़ रुपये सेटेलमेंट स्टेज पर वापस आ गए हैं , ED धड़ाधड़ कार्यवाही करते हुए PMLA के अंतर्गत ताबड़तोड़ छापेमारी कर रहा है , स्पष्ट है कि शिकंजे कसे जा रहे हैं , दर्द स्वाभाविक है , दशकों का कचरा भरा हुआ है ? स्वच्छता मिशन चालू है , धैर्य बनाये रखें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *